Hindi Urdu

NEWS FLASH

हज को लेकर सऊदी सरकार का फैसला स्वागत योग्य: मौलाना अरशद मदनी

इस्लाम खुद भी बीमारी से बचने का संदेश देता है और लोगों को भी बीमारी से बचाने के लिए कहता है: मौलाना अरशद मदनी

By: वतन समाचार डेस्क
  1. हज को लेकर सऊदी सरकार का फैसला स्वागत योग्य: मौलाना अरशद मदनी
  2. इस्लाम खुद भी बीमारी से बचने का संदेश देता है और लोगों को भी बीमारी से बचाने के लिए कहता है: मौलाना अरशद मदनी
  3. हज से संबंधित सऊदी सरकार का फैसला एक उचित फैसला है

  4. वर्तमान स्थिति में हज को संक्षेप किए जाने की घोषणा सराहनीय हैः- मौलाना अरशद मदनी

  जमीअत उलमा-ए-हिन्द के अध्यक्ष मौलाना सैयद अरशद मदनी ने खादिमे हरमैन खादिम मलिक सलमान बिन अबदुलअजीज़ द्वारा हज 2020 को स्थगित नहीं बल्कि संक्षेप करने का स्वागत करते हुए कहा कि यह एक उचित फैसला है जो सराहनीय है, उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में इस बात को लेकर लोगों के मन में यह आशंकाएं लगातार पैदा हो रही थीं कि खुदा न करे कोरोना जैसी घातक बीमारी को ध्यान में रखते हुए इस साल हज को स्थगित न कर दिया जाए, लेकिन अब जो यह फैसला आया है इस से हमें बहुत प्रसन्नता हुई है कि कुछ शर्तो के साथ इस साल भी हज होगा और सऊदी अरब में पहले से रह रहे मुसलमानों को भी यह सआदत हासिल हो सकती है चाहे उनका संबंध किसी भी देश से हो। उन्होंने यह भी कहा कि वर्तमान स्थिति में जब पूरी दुनिया और खुद सऊदी अरब कोरोना जैसी घातक बीमारी से पीड़ित है इससे उचित कोई अन्य फैसला नहीं हो सकता था।

    मौलाना मदनी ने कहा कि कोरोना के घातक होने और इस बीमारी के वैश्विक महामारी का रूप लेने के बाद सोशल डिस्टेंसिंग की शर्तों ने बहुत सी चीजों को सीमित कर दिया है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने लोगों को एक जगह जमा होने से रोक दिया है, जिसके बाद सऊदी सरकार को इस तरह का फैसला करना पड़ा, जो सराहनीय है और सऊदी सरकार के इस फैसले ने लोगों के दिलों में इस साल के हज को लेकर पैदा होने वाली आशंकाओं को भी दूर कर दिया है। खुद सऊदी अरब इस महामरी से सुरक्षित नहीं है। स्पष्ट रहे कि अरब न्यूज की एक रिपोर्ट के अनुसार 22 जून तक सऊदी अरब में, जिसकी जनसंख्या 2018 की जनगणना के अनुसार 3 करोड़ 37 लाख है, अब तक एक लाख 61 हज़ार लोग कोरोना से पीड़ित हो चुके हैं, जिनमें से 1307 लोगों की मृत्यु हो चुकी है और प्रतिदिन पीड़ितों की संख्या में वृद्धि हो रही है। मौलाना मदनी ने कहा कि इस्लाम का यह स्पष्ट संदेश है कि बीमारी से न केवल खुद बचें बल्कि दूसरों को भी इससे बचाएं और आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का फरमान है कि अगर आप किसी महामारी वाली जगह पर हैं तो वहां से न निकलें और बीमारी वाली जगह से दूर हैं तो वहां हरगिज न जाएं। चूंकि कोरोना एक वैश्विक महामारी है और अब तक इसका कोई उपचार सामने नहीं आया है, सावधानी ही इसका एकमात्र उपचार है। ऐसे में सऊदी सरकार का यह फैसला बहुत महत्वपूण है। मौलाना मदनी ने अंत में कहा कि पूरी दुनिया कोरोना जैसी महामारी के आगे विवश दिखाई देती है। ऐसे में हम दुआ करते हैं कि अल्लाह तआला पूरी दुनिया और विशेषकर हरमैन शरीफैन को इस घातक बीमारी से जल्द से जल्द राहत दे और इस महामारी को समाप्त करे। आमीन

 



  • Saudi government's decision on Hajj is commendable, Hajj has not been suspended but shortened: Maulana Arshad Madani

New Delhi, June 24, 2020: Welcoming the Saudi government's decision on Hajj, Maulana Arshad Madani, President of Jamiat Ulama-i-Hind said, "We are happy that Saudi government has not suspended the Hajj. On the contrary, the Hajj has been shortened in which people living there, regardless of their nationality, may perform Hajj. but people from abroad will not be able to perform hajj.

In a statement issued today, Maulana Madani said that it is the matter of pleasure to hear the decision of Saudi government regarding Hajj that Hajj has not been suspended but shortened. So, Hajj will be held this year also but with some restrictions as it is not possible for pilgrims from all over the world to reach there due to this epidemic, so it has been decided. We value this decision.

 Maulana Madani has said that people should not think that Hajj 2020 will not be performed. He said the Saudi government had made it clear that the Hajj 2020 would be held, but not in the way it had been before as millions of people from around the world were gathering to perform Hajj. 

Maulana said that since corona virus became deadly and the disease became a global epidemic, the rules of physical distance have limited many things. Health experts have prevented people from gathering in one place, after which Saudi government had to take this kind of decision that should be valued. This decision of Saudi government has also removed the fears in the hearts of the people regarding Hajj.

It should be noted that the Ministry of Hajj and Umrah of Saudi government has announced today that Hajj 2020 will be held, but only Muslims already residing in Saudi Arabia will get the opportunity to perform Hajj, regardless of their country of origin. Although the full details have not been released by the government yet, at least Saudi government has announced that Hajj 2020 will be held. 

Maulana Madani also said that in this regard, Saudi Ministry of Hajj and Umrah has not yet issued any guidelines on how the Hajj will take place, which we should wait for, but we are satisfied with the Saudi government's decision on Hajj. Maulana has also said that after discussion with Saudi government, Indian government has also made it clear that it will not send Hajj pilgrims from India this time, but if Indian pilgrims are living in Saudi Arabia and they want to perform Hajj. so we strongly hope that all of them will definitely get a chance to perform Hajj.

Maulana has said that the clear message of Islam is that Islam orders to avoid disease and save other people from disease. Maulana said that the Prophet of Allah has made it clear that if you are in the place of illness, do not leave it and if you are away from the place of illness, do not go to the place of illness and since Corona is a global epidemic and yet there is no cure for the disease, so people need to take precautions.

It should be noted that according to Arab News, as of June 22 in Saudi Arabia, Saudi population is only 33.7 million according to the 2018 census, in this small population so far, 161,000 people have been infected with Corona and 1307 people have passed away, and the number of patients is increasing day by day.



यदि आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो आप इसे आगे शेयर करें। हमारी पत्रकारिता को आपके सहयोग की जरूरत है, ताकि हम बिना रुके बिना थके, बिना झुके संवैधानिक मूल्यों को आप तक पहुंचाते रहें।

Support Watan Samachar

100 300 500 2100 Donate now

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

Poll

Should the visiting hours be shifted from the existing 10:00 am - 11:00 am to 3:00 pm - 4:00 pm on all working days?

SUBSCRIBE LATEST NEWS VIA EMAIL

Enter your email address to subscribe and receive notifications of latest News by email.

Never miss a post

Enter your email address to subscribe and receive notifications of latest News by email.