Hindi Urdu

NEWS FLASH

जामिया JMI: कड़ाके की सर्दी में कपड़ा उतार कर प्रदर्शन कर हैं छात्र

पुलिस ने काफी संयम बरता है, जबकि तस्वीरें पुलिस के दावे पर सीधे-सीधे सवालिया निशान खड़े कर रही हैं. वहीं सुप्रीम कोर्ट इस पूरे मामले को कल सुनने के लिए तैयार होगया है. माना जा रहा है मंगल या बुधवार को इस पूरे मामले पर सुप्रीम कोर्ट कोई बड़ा फैसला ले सकता है.

By: वतन समाचार डेस्क

जामिया JMI: कड़ाके की सर्दी में कपड़ा उतार कर प्रदर्शन कर हैं छात्र 

लेकिन क्या सच है, जो कुछ भी है उसका अंदाज़ा जांच के बाद ही पता चलेगा, जिस के लिए सुप्रीम कोर्ट में हियरिंग हो रही है और पुलिस ने भी जांच की बात कही है.

 

जामिया मिल्लिया इस्लामिया में छात्रों के जरिए नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ प्रदर्शन के बाद पुलिस की ओर से की गई बर्बरता पूर्वक कार्यवाही के बाद छात्रों का प्रदर्शन आज सुबह भी जारी रहा. छात्रों ने कड़ाके की सर्दी में भी कपड़े उतार कर प्रदर्शन किए, जिस से इस बात को समझा जा सकता है कि छात्रों को उस पीड़ा का कितना एहसास है और उस पीड़ा का उससे ज्यादा कहीं एहसास है जो पीड़ा उनको कपड़ों को उतारने पर हो रही है.

Please open the below link

जामिया के समर्थन में देश भर में छात्रों का प्रदर्शन, नदवा के छात्र भी मैदान में

Big Breaking: बाबरी मस्जिद बचाने के लिए आखिरी हथियार भी इस्तेमाल करेगा बोर्ड

 

 

 

 छात्रों की डिमांड है कि इस पूरे वाकए की इंक्वायरी कराई जाए और जिस तरह से पुलिस ने उन पर बर्बरता पूर्वक कार्यवाही की है उसके खिलाफ पुलिस वालों को दंडित किया जाए. छात्रों के साथ जामिया एडमिनिस्ट्रेशन भी खड़ा नजर आ रहा है. वाइस चांसलर ने बयान दिया है कि वह छात्रों के साथ हैं और जिस फोरम पर भी होगा वह छात्रों की आवाज उठाएंगी वहीं छात्रों के साथ साथ यूनिवर्सिटी के सिक्योरिटी गार्डों को भी मारे जाने की खबर है.

 

 सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो और फोटोज़ के अनुसार पुलिस सिक्योरिटी गार्ड को भी मारते हुए नजर आ रही है. पुलिस पर आरोप है कि उसने बाथरूम के दरवाजे और हॉस्टल के दरवाजे के साथ लाइब्रेरी में भी तोड़फोड़ किया है. पुलिस पर यह भी आरोप है कि पुलिस ने बसों में आग लगाई है हालांकि पुलिस इन सारे आरोपों को खंडित कर रही है और पुलिस का कहना है कि उसकी ओर से कोई बल पहले प्रयोग नहीं किया गया बल्कि जहां-जहां से पत्थर आ रहे थे पुलिस ने वहां जाकर के छात्रों को रोकने की कोशिश की है और पुलिस ने जो कुछ किया है वह अपने बचाव में किया है.

 

 पुलिस ने काफी संयम बरता है, जबकि तस्वीरें पुलिस के दावे पर सीधे-सीधे सवालिया निशान खड़े कर रही हैं. वहीं सुप्रीम कोर्ट इस पूरे मामले को कल सुनने के लिए तैयार होगया है. माना जा रहा है मंगल या बुधवार को इस पूरे मामले पर सुप्रीम कोर्ट कोई बड़ा फैसला ले सकता है. लेकिन क्या सच है, जो कुछ भी है उसका अंदाज़ा जांच के बाद ही पता चलेगा, जिस के लिए सुप्रीम कोर्ट में हियरिंग हो रही है और पुलिस ने भी जांच की बात कही है.

दिल्ली में जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी के गेट के बाहर शहजाद नाम का छात्र अपने साथियों के साथ कपड़े उतार कर प्रदर्शन कर रहा है. बीती रात 15 12 2019 को (कल) दिल्ली पुलिस ने कैंपस में घुसकर बल प्रयोग किया था, सैकड़ों छात्रों ने रात को पुलिस हेडक्वार्टर पर धरना दिया था.

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

Poll

Should the visiting hours be shifted from the existing 10:00 am - 11:00 am to 3:00 pm - 4:00 pm on all working days?

SUBSCRIBE LATEST NEWS VIA EMAIL

Enter your email address to subscribe and receive notifications of latest News by email.

Never miss a post

Enter your email address to subscribe and receive notifications of latest News by email.